हीरा समूह मामले में एसएफआइओ की याचिका को उच्चतम न्यायालय ने खारिज किया

नई दिल्ली 14 मई 2022- माननीय उच्चतम न्यायालय द्वारा हीरा गोल्ड एक्ज़िम लिमिटेड के खिलाफ गंभीर धोखाधड़ी जांच कार्यालय (एसएफआईओ) की दलीलों को खारिज करने के बाद, हीरा ग्रुप के सीईओ डॉक्टर नोहेरा शैख ने कहां की, हमारे निवेशकों के प्रति हीरा समूह की प्रतिबद्धता को दोहराया। “हमारा व्यवसाय ब्याज मुक्त है और हमारे निवेशकों का हम पर भरोसा हमारी सबसे बड़ी ताकत है,” उन्होंने कहा की, हमारा व्यवसाय स्वतंत्र और निष्पक्ष है।
भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने पिछले गुरुवार (12 मई) को हीरा गोल्ड एक्जिम लिमिटेड और हीरा समूह के संस्थापक एवं सीईओ डॉक्टर नौहेरा शैख के खिलाफ एसएफआईओ द्वारा दायर आवेदन को खारिज कर दिया। सुप्रीम कोर्ट ने एसएफआईओ को हीरा समूह के वैध दावेदारों में शामिल होने के केंद्रीय मुद्दे पर ध्यान केंद्रित करने का निर्देश दिया।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश में कहा गया है, “आवेदन खारिज किया जाता है और प्राथमिकी के अनुसार कार्यवाही पर रोक लगा दी जाती है।” अदालत ने कहा कि आर्थिक अपराधों के मामलों में, जांच एजेंसी का प्राथमिक ध्यान धोखाधड़ी करने वाले निवेशकों को पैसा देना होना चाहिए।

अदालत ने कहा, “जांच की दिशा दावों को सत्यापित करने और संपत्तियों को सत्यापित करने के लिए होनी चाहिए। और देखें कि निवेशकों को सबसे अच्छा संवितरण कैसे होता है ताकि निवेशकों को अपना धन वापस पाने का मुद्दा प्राथमिकता के साथ मिल सके।”

सुनवाई के दौरान अदालत ने यह भी पूछा, ”हीरा समूह के बैंक खातों को डी-फ्रीज क्यों नहीं किया गया? परिचालन खातों के बिना हीरा समूह निवेशकों को भुगतान कैसे करेगा?” दावों को सत्यापित करने, संपत्तियों को सत्यापित करने और यह देखने पर ध्यान केंद्रित किया जाना चाहिए कि निवेशकों को सबसे अच्छा संवितरण कैसे होता है ताकि निवेशकों को अपना धन वापस पाने का मुद्दा प्राथमिकता के साथ पूरा हो सके।

हीरा समूह की ओर से भारत के पूर्व अटॉर्नी जनरल और वरिष्ठ वकील मुकुल रोहतगी ने अदालत से कहा, “हमें सुरक्षा प्रदान करें क्योंकि हमारे (हीरा समूह) के खिलाफ प्राथमिकी दर्ज की गई थी जो सिर्फ और सिर्फ राजनीति से प्रेरित है।”

हीरा समूह के सीईओ डॉक्टर नौहेरा शैख ने एक बयान में कहा कि वह अनुपालन न करने वाले सदस्यों को पहले निपटाने के लिए प्रतिबद्ध है, क्योंकि एसएफआईओ द्वारा अभी तक डेटा (लेन देन का डिजिटल रिकॉर्ड) उपलब्ध नहीं कराया गया है। हीरा समूह ने अपने सभी सदस्यों, समर्थकों और निवेशकों को उन पर विश्वास बनाए रखने का आश्वासन भेजा। उन्होंने कहा कि हीरा समूह का ब्याज मुक्त कारोबार ही लोगों के लिए धन और सद्भावना लाएगा।

Spread the love

Leave a Reply

Your email address will not be published.